Tuesday, October 28, 2014

Challenge to ISIS Through Poetry

Challenge to ISIS

Saja Hua Hai Maidan-e-Jung Phir Se Aaj
Hum Bhi Jihad-e-Awwal Ke Liye Raazi Hain

Badhao Tadad-e-Fauj Apni Abhi Or Aye Zalimo
Bhari Tum Sab Par Humara Ek Haadi Hai

-Mustejab (Rajat Abbas Kirmani, India)


तफकीरी जमात आईएसआईएस को चुनौती शायरी के जरिए

सजा हुआ है मैदान-ए-जंग फिर से आज
हम भी जिहाद-ए-अव्वल के लिए राज़ी हैं

बढ़ाओ तादाद-ए-फौज अपनी अभी और ऐ ज़ालिमों
भारी तुम सब पर हमारा एक हादी है

-मुस्तजाब (रजत अब्बास किरमानी, भारत)


No comments: