Wednesday, September 01, 2010

Utha Koi Janaza phir...Shahdat Noha by Sachay Bhai marhoom

इमाम अली की शहादत पर पढ़े गए सच्चे भाई के इस नौहे को सुनने पर आज भी आंखों में आंसू आए बिना नहीं रहते। इस नौहे को सुनने के दौरान सच्चे भाई मरहूम के लिए सूर-ए-फातेहा जरूर पढ़ें। -अंजुमन जुल्फकार-ए- हैदरी

Please Recite surah Fateha for Sachay bhai, Bashay bhai ,Aale Haider Rizvi bhai .I am sure they all are in Janat and reciting this noha together in front of 14 masumeen today.  - Anjuman Zulfiqar-e-Hayderi




 
A Little Death In DixieA Little Death In Dixie

No comments: