Monday, June 28, 2010

13 Rajab 2010 Celebratitions Delhi Shah-e-Mardan Imambara Jo Dil ko Dil se na jore hum uske sath nahi

Viladat-e-Imam Ali celebrated in Delhi with high respect. A mehfil was organized at Shah-e-Mardan (Jorbagh). Huge gathering of shia people attended this event. Momneen visited in all rouza of Imams in the premises. Noted Shayar Dhramendranath ji presenting his kalam. You can explore more videos of Nauhey Majlis, Marsia at http://youtube.com/ykmedia   All video shoot by Syed Rajat Abbas Kirmani

 Jo Dil ko Dil se na jore hum uske sath nahi....

 

Ali ka naam jo le lijiye tu ho 14 sabak roshan... Aaj ye kaun janma hai...

इनका नाम जरूर हिंदू है लेकिन यह किसी शिया से कम हजरत अली के चाहने वाले नहीं हैं। जो लोग उर्दू शायरी से वाकिफ हैं, वे जानते हैं कि इनकी शायरी की दुनिया में क्या हैसियत है। इनका उर्दू साहित्य में पूरा काम ही अहलेबैत के इर्द-गिर्द घूमता है। इसे ऐसे भी कह सकते हैं कि इन्होंने अपना पूरा जीवन अपनी शायरी के जरिए अहलेबैत के लिए दे दिया। भारत समेत दुनिया के कई देशों में सम्मानित हो चुके इस शायर को शिया अजादारी और मोमनीन की ओर से शत-शत प्रणाम...


No comments: